Biosil Amrit

निम्न फसलों में उपयोगी : कपास , मक्का , उड़द , मुंग , सोयाबीन , मिर्ची , करेला , टमाटर , बैगन , धान , चनगेहूँ , मटर , सरसो तुवर

This preparation is essential in biodynamic agriculture . it is the companion spray to horn manure(Bio sill Amrit)and acts in polarity with it. It is not used on the soil.It works on the aerial parts of plant during Their growth phase.Horn silica can be considered as sort of “spray of light”that promotes plant vigour , and reins in excessive growth.It adds a crystalline,luminous quality to plants, and reduces susceptibility to diseases. Not only dose Horn Sillica(Bio Sill Amrit) reinforce the effects of sunlight, it also give plants a better Relationship with the cosmic periphery and the cosmic environment. This preparation is vital for the internal structure of plants and for their overall development. It promotes vertical growth, making it strengthens plants, and gives them greater suppleness. It improves the quality and resistance leaf surface and fruit skins. it also a determining factor for ensuring food quality.

Use 4g. per hectare in 30-35 litier of high-quality water.For areas smaller than 1000 metres ,use 1g. in 5-10 litre of water,and spray the total volume.stir vigourously for exactly one hour,as for horn manure.

  • यह पौधो में पर्णरहित को बढ़ाकर अतिरक्त प्रकाश संश्लेषण की क्रिया प्रदान करता है ।
  • यह पौधो में ज्यादा शाखाएँ देता है । जिससे पौधो में फूलो - फलो तथा फल्लियो की मात्रा में बढ़ोतरी करता है ।
  • यह पौधो में फफूंदी रोग , वायरस मौसम की प्रतिकूलता से होने वाले रोगो के प्रतरोधक क्षमता का विकाश करता है ।
  • यह अतिवृष्टि ( अधिक वर्षा ) एवं कोहरा (फ़ाग) पौधो पर होने वाले नुकशान से बचाता है ।
  • इसके प्रयोग से अधिक उपज एवं गुणवत्ता का ( आकर , भार , रंग , चमक ) को बढ़ाता है ।

Our Statistics

Features

पंचगव्य

पंचगव्य यह एक अत्यधिक प्रभावी जैविक खाध है जो पौधों की वृद्धि एवं विकास में सहायता करता है और उनकी प्रतिरक्षा सहमत को बढ़ता है|पंचगव्य का प्रयोग गेहूँ, मक्का, बाजरा, धान, मूंग, कपास, सरसो, मिर्च, टमाटर, बैंगन, मूली, गाजर, हल्दी, हरी सब्जिया आदि तथा अन्य सभी फल पेड़ो एवं फसलो में महीने में दो बार क्र सकते है |

बायोसिल अमृत

यह प्रकाश संश्लेषण की क्रिया को बढाकर फफूंदी रोग लगने से बचाता है बड़े पेड़ या बगीचे में इसके छिड़काव से ७ दिनों नए शाखाये पत्ते आने लगते है इसके छिड़काव से फफूंद रोग की रोकथाम होती है स्वस्थ फूल और फल पहले की अपेक्षा अधयक मात्रा में आकर उत्पादन को बढ़ाते है बायोसिल अमृत मिर्च, बैंगन, करेला, लोकी, टमाटर आदि फसल पर लाभकारी है|खरीफ फसल-गेहूँ, चना, मक्का, गन्ना, धान, कपास इत्यादि सभी फसलो पर ज्यादा से ज्यादा लाभ लेने के लिए १५ दिनों के अंतराल में बायोसिल अमृत का प्रयोग करना चाहिए|चुकी बायोसिल अमृत बायो डायनेमिक है अतः इसका असर लंबे समय तक रहता है

कैटर कट

कैटर कट एक अत्यंत प्रभावशाली किट नाशक है,इसके उपयोग से सभी हानिकारक कीटो का नाश हो जाता है|इसके उपयोग से २-३ दिन में ही कीटो की मृत्यु हो जाती हैफसल पर दुबारा किट लगने की सम्भावना समाप्त हो जाती है |

>>>

Latest Output